उत्तराखंड हादसे का 9वां दिन: अलकनंदा नदी का जल स्तर बढ़ने का मैसेज वायरल, पुलिस बोली- सब सामान्य; तपोवन में अब तक 53 शव मिले

  • Hindi News
  • National
  • Uttarakhand NTPC Tapovan Tunnel Rescue Operation LIVE Update | Uttarakhand Chamoli Glacier Burst Latest Today News

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली9 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

फोटो रविवार को तपोवन स्थित NTPC की टनल के पास की है। यहां लगातार शव मिल रहे हैं। रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है ताकि फंसे हुए मजदूरों को जल्द से जल्द निकाला जा सके।

चमोली हादसे के रेस्क्यू का आज 9वां दिन है। तपोवन इलाके से अब तक 53 शव बरामद किए गए हैं। NTPC की टनल में फंसे 32 मजदूरों को निकालने के लिए कोशिशें जारी हैं, पर जैसे-जैसे वक्त बीत रहा है, उम्मीदें भी कम होती जा रही है। इस टनल से अब तक 5 शव मिले हैं। रेस्क्यू के दौरान ही रविवार देर रात अलकनंदा नदी का जल स्तर बढ़ने का मैसेज वायरल हुआ, पर उत्तराखंड पुलिस ने इसे अफवाह करार दिया है।

उत्तराखंड पुलिस ने कहा कि एक मैसेज वायरल हो रहा है, जिसमें अलकनंदा नदी का जल स्तर बढ़ने की बात कही जा रही है। ये गलत मैसेज है। अलकनंदा का जल स्तर सामान्य है। परेशानी वाली कोई बात नहीं है।

टनल के भीतरी इलाके में कैमरा ऑपरेट करने की कोशिश
चमोली में जो 53 शव बरामद किए गए हैं, उनमें ज्यादातर तपोवन इलाके में ही मिले हैं। इनमें भी सबसे ज्यादा संख्या NTPC की टनल और रैणी गांव से मिलने वाले शवों की है। अभी टनल में 32 वर्कर्स के फंसे होने की आशंका है। टनल में 130 मीटर तक मलबा साफ कर दिया गया है। अब टनल से लगी एक सुरंग में किए गए होल का मुहाना चौड़ा करने की कोशिश की जा रही है ताकि इसमें वर्कर्स की तलाश में कैमरा ऑपरेट किया जा सके।

रेस्क्यू टीम को उम्मीद है कि टनल में अभी भी ऑक्सीजन है और कुछ ऐसी जगहें भी होंगी, जिनमें मजदूर सुरक्षित हो सकते हैं। अधिकारियों का कहना है कि हम जल्द से जल्द मजदूरों को निकालने की कोशिश कर रहे हैं।

अभी 150 लोग लापता, सर्च ऑपरेशन तेज
उत्तराखंड पुलिस के मुताबिक, आपदा के बाद कुल 206 लोगों के लापता होने की शिकायत दर्ज कराई गई थी। इनमें अभी 150 लोगों की तलाश जारी है। ऋषिगंगा, धौलीगंगा और आस-पास की नदियों में लोगों को तलाशने का काम तेज कर दिया है।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *