कोरोना दुनिया में: कोलिंस डिक्शनरी ने लॉकडाउन को वर्ड ऑफ 2020 चुना; ब्राजील ने चीनी वैक्सीन का ट्रायल रोका

  • Hindi News
  • International
  • Hindi News International Coronavirus Novel Corona Covid 19 10 November | Coronavirus Novel Corona Covid 19 News World Cases Novel Corona Covid 19

लंदन/येरुशलम/वॉशिंगटन7 घंटे पहले

जॉर्डन की राजधानी अम्मान में कोरोनो वायरस के कारण पांच दिन का लॉकडाउन लगाया गया है।

  • अमेरिका में संक्रमितों का आंकड़ा 1.42 करोड़ से ज्यादा, अब तक 2.44 लाख लोगों ने गंवाई जान
  • दुनिया में अब तक 12 लाख से ज्यादा मौतें हुईं, पिछले साल 17 नवंबर को मिला था पहला केस

कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए दुनिया भर में लागू किए लॉकडाउन को कोलिंस डिक्शनरी ने वर्ड ऑफ दि ईयर-2020 घोषित किया है। डिक्शनरी के मुताबिक, लॉकडाउन को यात्रा, सामाजिक संपर्क और सार्वजनिक जगहों तक पहुंच पर कड़ी पाबंदियां लगाने के रूप में परिभाषित किया गया है।

पूरी दुनिया के लिए एक सा अनुभव

कोलिंस का कहना है कि हमारे लेक्सियोग्राफर्स (डिक्शनरी तैयार करने वाले) ने लॉकडाउन को वर्ड ऑफ दि ईयर के रूप में चुना क्योंकि यह दुनिया भर के अरबों लोगों के लिए एक जैसा अनुभव रहा। बड़ी आबादी ने कोविड-19 के प्रसार का मुकाबला करने में अपना योगदान इसी तरह दिया।

लिस्ट में कोरोना वायरस भी शामिल

कोलिंस के लैंग्वेज कंटेंट कंसलटेंट हेलेन न्यूस्टेड ने कहा कि भाषा हमारे चारों ओर की दुनिया का आइना है और 2020 पर इस महामारी का साया रहा है। इस लिस्ट में कोरोना वायरस शब्द भी है। इसके इस्तेमाल में असाधारण रूप से साल-दर-साल 35,000 गुना वृद्धि हुई है। यह वायरस के किसी समूह के रूप में परिभाषित किया गया है जो कोविड-19 सहित श्वसन तंत्र की संक्रामक बीमारियों का कारण बनता है।

चीनी वैक्सीन से गंभीर नुकसान

ब्राजील के स्वास्थ्य नियामकों ने अपने यहां चीनी वैक्सीन के ट्रायल पर रोक लगा दी है। इसकी वजह वॉलंटियर्स को गंभीर नुकसान बताए गए हैं। चीनी ड्रग मेकर सिनोवेक बायोटेक ने जुलाई में वैक्सीन का फेज-3 ट्रायल शुरू किया था। इसमें ब्राजील के बुटांटन इंस्टिट्यूट साझीदार था। यह परीक्षण 13 हजार वॉलंटियर पर किया जाना था।

फिलिस्तीनी शांति वार्ताकार की मौत

फिलिस्तीन के अनुभवी शांति वार्ताकार साएब एरेकात की मंगलवार को मौत हो गई। वे कोरोना वायरस से संक्रमित थे। 65 साल के एरेकात 30 साल से ज्यादा समय तक अंतरराष्ट्रीय स्तर पर फिलिस्तीनियों का पक्ष रखते रहे। अमेरिका में पढ़े एरेकात इजरायल और फिलिस्तीन के बीच होने वाली लगभग हर शांति वार्ता में शामिल थे।

साएब की कई साल तक पश्चिमी मीडिया में लगातार मौजूदगी बनी रही। टू स्टेट सॉल्यूशन के कारण दशकों से चला आ रहा संघर्ष सुलझाने के लिए उन्होंने अथक प्रयास किया। वे हमेशा फिलिस्तीनी नेतृत्व का बचाव करते रहे और किसी समझौते तक न पहुंचने के लिए इजराइल को दोषी ठहराया।

दुनिया में संक्रमितों का आंकड़ा रविवार को 5 करोड़ के पार

वहीं, दुनिया में कोरोना मरीजों का आंकड़ा रविवार को 5 करोड़ के पार हो गया। अब तक 5 करोड़ 12 लाख 32 हजार 905 लोग संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं। इनमें 3 करोड़ 60 लाख से ज्यादा लोग ठीक हो चुके हैं। अब तक 12 लाख 68 हजार से ज्यादा लोग जान गंवा चुके हैं। ये आंकड़े www.worldometers.info/coronavirus के मुताबिक हैं।

यूक्रेन में राष्ट्रपति समेत फाइनेंस और डिफेंस मिनिस्टर भी पॉजिटिव

इस बीच, यूक्रेन में राष्ट्रपति के बाद अब फाइनेंस और डिफेंस मिनिस्टर भी पॉजिटिव हो गए हैं। राष्ट्रपति व्लादिमिर जेलेन्स्की के ऑफिस ने यह जानकारी दी। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, राष्ट्रपति के कुछ एडवाइजर्स भी संक्रमित हैं, लेकिन इसकी जानकारी सार्वजनिक नहीं की गई है। इतने बड़े पैमाने पर संक्रमण के बाद सरकार में हड़कंप है। सरकार ने देश में लॉकडाउन न हटाने की बात भी कही है।

फ्रांस में नाटकीय रूप से कम हो गई संक्रमितों की संख्या
फ्रांस में 8 दिन से हर दिन औसतन 50 हजार केस मिल रहे थे। लेकिन, सोमवार को इनकी संख्या नाटकीय रूप से सिर्फ 20 हजार के करीब हो गई। देश में लॉकडाउन पर सरकार ने कहा कि इससे बहुत फायदा हुआ है। देश में 10 दिन से लॉकडाउन है। सोमवार को कुल 20 हजार 155 संक्रमित मिले। वैसे एक तथ्य यह भी है कि संक्रमितों की संख्या भले ही कम हुई हो, लेकिन हॉस्पिटल्स में भर्ती होने वालों की संख्या कम नहीं हुई।

फ्रांस के पेरिस शहर के एक चर्च के कॉरिडोर में मौजूद सुरक्षाकर्मी। फ्रांस में एक दिन में मामले 50 से 20 हजार पर आ गए।

फ्रांस के पेरिस शहर के एक चर्च के कॉरिडोर में मौजूद सुरक्षाकर्मी। फ्रांस में एक दिन में मामले 50 से 20 हजार पर आ गए।

ब्रिटेन में फिर मौतें
ब्रिटेन के कुछ हिस्सों में लॉकडाउन जारी है। लेकिन, इसका फायदा होता नजर नहीं आता। यहां सोमवार को 21 हजार मामले सामने आए। यह हाल के दिनों में सबसे बड़ा आंकड़ा है। इसके साथ ही ही 194 लोगों की मौत भी हुई। हेल्थ मिनिस्ट्री का कहना है कि मौतों का बढ़ता आंकड़ा सबसे बड़ी चिंता का विषय है। देश में सात दिन में एक लाख 60 हजार मामले सामने आए। इसी दौरान दो हजार 385 लोगों की मौत हो गई।

अमेरिका में तीसरी लहर खतरनाक
अमेरिका दुनिया का पहला देश बन गया है जहां कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा एक करोड़ के पार हो गया है। रॉयटर्स न्यूज एजेंसी के मुताबिक, अमेरिका में कोरोना की तीसरी लहर शुरू हो चुकी है। बीते 10 दिन में अमेरिका में लाखों मामले सामने आए हैं। वॉशिंगटन में 293 दिन पहले कोरोना का पहला केस आया था। अमेरिका में शनिवार को 1 लाख 31 हजार 420 मामले दर्ज किए गए थे।

अमेरिका में बीते सात दिन में कोरोना के नए मामले आने का औसत 1 लाख 5 हजार 600 रहा। इसमें 29% की बढ़ोतरी देखी गई। अमेरिका के कुल मामले भारत (85 लाख से ज्यादा) और फ्रांस (17 लाख से ज्यादा) केसों से ज्यादा हैं। अब तक कोरोना से दुनिया में 5 करोड़ 7 लाख 37 हजार 875 केस सामने आ चुके हैं। 12 लाख 62 हजार 130 लोगों की मौत हो चुकी है। 3 करोड़ 57 लाख 95 हजार 252 लोग ठीक भी हो चुके हैं।

अमेरिका में संक्रमण की तीसरी लहर खतरनाक तौर पर आगे बढ़ रही है। इसके साथ ही टेस्टिंग भी बढ़ा दी गई है। विस्कॉन्सिन के मिलवाउकी में सोमवार को एक व्यक्ति का टेस्ट करती हेल्थ वर्कर।

अमेरिका में संक्रमण की तीसरी लहर खतरनाक तौर पर आगे बढ़ रही है। इसके साथ ही टेस्टिंग भी बढ़ा दी गई है। विस्कॉन्सिन के मिलवाउकी में सोमवार को एक व्यक्ति का टेस्ट करती हेल्थ वर्कर।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *