खुद का रोजगार: कोरोना काल में खुद का बिजनेस शुरू करने पर रहा लोगों का ध्यान, देश में 10% बढ़ी ‘फाउंडर्स’ या ‘को-फाउंडर’ की संख्या

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली14 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

कोरोना महामारी के बाद से भारत में अब तक जॉब मार्केट पूरी तरह उभर नहीं पाया है। इसी का नतीजा है कि अब वर्किग प्रोफेशनल अपना खुद का बिजनेस शुरू कर रहे हैं। सोशल नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म लिंक्डइन कि बुधवार को आई रिपोर्ट के अनुसार 2020 में ‘फाउंडर्स’ या ‘को-फाउंडर’ (इंटरप्रेन्योर) टाइटल वाले जॉब प्रोफेशनल्स में 10% की ग्रोथ देखी गई है।

चुनौतियों के बाद भी भविष्य को लेकर निश्चिंत हैं युवा
1 से 29 जनवरी तक 1,752 लोगों पर किए गए इस सर्वे में सामने आया है कि भले ही कोरोना के कारण जॉब मार्केट में अनिश्चितता का माहौल हो लेकिन फिर भी लोगों का लगता है कि उनका कैरियर ग्रोथ करेगा। इसमें से लगभग 80% प्रोफेशनल्स को अपने स्किल्स पर, वहीं 79% को अपने स्ट्रोग CV पर भरोसा है।

भारत में जॉब हायरिंग रेट 17% घटी
लिंक्डइन के अनुसार वित्त वर्ष के आखिरी ये स्थिति तक बनी है जब देश में जॉब हायरिंग रेट दिसंबर 2019 के मुकाबले दिसंबर 2020 में 17% घटी है। इस सर्वे से पता चला है कि भले ही अभी जॉब मार्केट में लचीलापन हो लेकिन इसकी चिंता न करने के अलग-अलग ऐज ग्रुप के लोगों के पास कई कारण हैं। सभी लोग अपने हिसाब से इस समय से निपट रहे हैं। वो इसको लेकर बहुत ज्यादा परेशान नहीं हैं।

चार में से 3 लोग तलाश रहे नई जॉब
इससे पहले लिंक्डइन ने इसी महीने एक अन्य रिपोर्ट जारी की थी जिसमें कहा गया था कि चार में से 3 लोग तलाश रहे। इस सर्वे में 1,016 लोग शामिल थे। सर्वे में शामिल प्रत्येक 4 में से 3 लोग या तो नई नौकरी तलाश रहे हैं या फिर अगले 12 महीने में किसी अन्य पद पर नौकरी की कोशिश में हैं। सर्वे में यह भी पता चला 64% भारतीय प्रोफेशनल अपने भविष्य को लेकर निश्चिंत हैं।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *