गेमिंग से डेवलप होगा माइंड: रोजाना 10 मिनट वीडियो गेम खेलने से ईस्पोर्ट स्किल में होगा सुधार, नौसिखिए लोगों को होगा ज्यादा फायदा

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली29 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

वीडियो गेम की आदत भले ही अच्छी नहीं हो, लेकिन इसे हर दिन 10 मिनट खेलने से ईस्पोर्ट स्किल में सुधार होता है। ईस्पोर्ट्स साइंस रिसर्च लैब (ESRL) ने इसे लेकर एक स्टडी की है। स्टडी के मुताबिक, वीडियो गेम पर स्टडी को लेकर उन्होंने पाया कि नौसिखिए गेमर्स को इससे बहुत फायदा हुआ है।

ट्रेनिंग सेशन के शुरुआती 20 मिनट में ट्रांसक्रैनील डायरेक्ट करंट स्टिमुलेशन (tDCS) हेडसेट का इस्तेमाल भी किया गया। इसकी मदद से दिमाग की एक्टिविटी के बारे में पता लगाया जाता है।

नौसिखिए प्लेयर्स को ज्यादा फायदा
ESRL के डायरेक्टर, रिसर्चर मार्क कैंपबेल ने कहा, “हमारी स्टीड में पाया गया कि नौसिखिए गेमर्स जिन्होंने प्रशिक्षण से पहले tDCS पहना था, पांच दिनों में उनकी गेमिंग स्किल में सुधार हुआ। खासकर ऐसे नौसिखिए जिन्हें गेम के लिए पहले ट्रेनिंग नहीं दी गई।”

कंप्यूटर में ह्यूमन बिहेवियर पर स्टडी करने के लिए प्रतिभागियों ने डिजाइन किया गया tDCS हेडसेट पहनाया गया था। हालांकि, इस दौरान कुछ प्रतिभागियों के दिमाग में किसी तरह की हलचल नजर नहीं आई।

तेजी से खेलने पर दिमाद ज्यादा एक्टिव हुआ
रिसर्चर ने कहा कि गेमिंग स्टडी के ट्रेनिंग सेशन दौरान हमने प्लेयर्स को दुश्मन के ठिकानों को जल्द से जल्द ढूंढकर और सही तरीके से शूट करके उन्हें खत्म करने के लिए कहा। ऐसे में प्लेयर्स के दिमाग ज्यादा एक्टिव हो गया। रिसर्चर ने जिन प्लेयर्स के दिमाग में हलचल नहीं हो रही थी, उसकी जांच की तो उन्हें लेफ्ट और राइट टारगेट का इफेक्ट नजर आया, लेकिन सेंटर टारगेट नहीं मिला। सटडी के रिजल्ट से ये साफ हुआ कि ज्यादातर लोगों को 10 मिनट तक गेम खेलने से फायदा हो सकता है।

खबरें और भी हैं…

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *