जज्बे की जीत: ब्रिटिश एडवेंचरिस्ट बेअर ग्रिल्स ने कहा- जिंदगी कभी-कभी जंग जैसी हो जाती है, सकारात्मकता से चुनौतियों का सामना करता हूं, जीतता हूं

  • Hindi News
  • International
  • Bear Grylls Said Life Sometimes Becomes A War, Collecting All The Positivity And Facing Challenges, I Win

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

लंदन6 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

बेयर ग्रिल्स ने सोशल मीडिया पर बताया, ‘फैंस अक्सर पूछते हैं कि क्या अब भी दर्द होता है, मेरा जवाब होता है- रोज और असहनीय।’ (फाइल फोटो)

चर्चित एंडवेंचरिस्ट और टीवी प्रजेंटर बेयर ग्रिल्स ने कहा है कि उन्हें 25 साल पहले एक एडवेंचर के दौरान चोट लगी थी, जिसके लिए वह अब तक इलाज ले रहे हैं। सोशल मीडिया पर उन्होंने बताया, ‘फैंस अक्सर पूछते हैं कि क्या अब भी दर्द होता है, मेरा जवाब होता है- रोज और असहनीय।’

चर्चित टीवी शो मैन वर्सेस वाइल्ड के प्रस्तोता ग्रिल्स, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बॉलीवुड एक्टर अक्षय कुमार को भी अपने शो में मेहमान बना चुके हैं। पोस्ट में ग्रिल्स बता रहे हैं कि किस तरह वह इस दर्द को रोज हराते हैं…

25 साल से रोज दर्द झेल रहा हूं, पर हार नहीं मानी
बेयर ग्रिल्स बताते हैं, ‘बात 1996 की है। उस वक्त मैं जांबिया की एक स्काईडाइविंग इवेंट में शामिल होने गया था। बदकिस्मती से पैराशूट नहीं खुला और मुझे पीठ के बल खतरनाक लैंडिंग करनी पड़ी। इसके चलते रीढ़ की हड्‌डी में फ्रैक्चर हो गया। साल भर फिजियोथैरेपी और तमाम उपचार चले। पर दर्द अब भी होता है।

उस वक्त मैं 21 साल का था। आज 46 का हो चुका हूं। रोज इस असहनीय दर्द से लड़ता हूं। इससे उबरने के लिए आइस ट्रीटमेंट लेता हूं, जो काफी तकलीफदेह होता है। पर शरीर और दिमाग को मजबूत रखने के लिए यह जरूरी है।

हर किसी के लिए जिंदगी कभी-कभी जंग के समान हो जाती है और लोग रोमांच के साथ इस जंग को लड़ते हैं। मैं भी उन्हीं में से एक हूं। सारी सकारात्मता को इकट्‌ठा कर मैं इस चुनौती का सामना करता हूं और जीतता हूं। मैं शुक्रगुजार हूं कि मुझे एक सर्वश्रेष्ठ जिंदगी जीने का मौका मिला है।

दृढ़ इच्छाशक्ति के चलते ही चोट लगने के दो साल बाद मैंने माउंट एवरेस्ट फतह कर लिया था। उस वक्त मैं इस पर्वत पर चढ़ने वाला सबसे युवा ब्रिटिश शख्स बन गया था। मुझे कभी भी डर नहीं लगा, क्योंकि जिंदगी में ये घटनाएं तेजी से हुईं, पर इनका असर ज्यादा समय तक नहीं रहा।

मैं इन सबसे उबरने में कामयाब रहा। ‘एनिमल्स ऑन द लूज’ सीरीज की शूटिंग के वक्त तो मैंने मौत को बहुत करीब से देखा था। जिंदगी में पीछे मुड़कर देखता हूं तो लगता है कि कुछ मौकों पर तो जान गंवा ही दी थी। पर भाग्यशाली हूं कि हर बार बच गया।

फैंस कहते हैं उन्हें मुझे देखकर संघर्ष की प्रेरणा मिलती है। एक फैन ने लिखा कि उसे हर्निएटेड डिस्क लगी है, भयंकर दर्द होता है, पर मेरी सकारात्मकता देखकर उसे मदद मिलती है। एक अन्य फॉलोअर ने कहा कि आप सच्ची प्रेरणा हैं। जिस तरह के साहसिक काम आप करना चाहते हैं, उसके लिए मजबूत बने रहिए।’

खबरें और भी हैं…

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *