न्यूजीलैंड की संसद में बवाल: स्पीकर ने आदिवासी सांसद को टाई न पहनने पर हाउस से निकाला, MP ने कहा- गुलामी की निशानी मंजूर नहीं

  • Hindi News
  • International
  • Rawiri Waititi | New Zealand Parliament News Update; Adiwasi MP Rawiri Waititi Kick Out By Speaker Trevor Mallard

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

ऑकलैंड8 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

न्यूजीलैंड की संसद के स्पीकर ट्रेवर मलार्ड ने आदिवासी सांसद राविरी वेइटिटि को सदन से निकाल दिया। राविरी का कसूर सिर्फ इतना था कि वे बिना टाई पहने सरकार से सवाल पूछना चाहते थे। स्पीकर ने कुछ दिन पहले भी राविरी से कहा था कि अगर वे सरकार के किसी मंत्री से सवाल पूछना चाहते हैं तो उन्हें नियमों के मुताबिक टाई पहनना होगा।

राविरी माओरी आदिवासी जनजाति से ताल्लुक रखते हैं। वे सदन में इसका एक लॉकेट पहनकर आए थे। स्पीकर ने उन्हें अपने चैम्बर में भी बुलाकर समझाया था, लेकिन वे सुझाव मानने तैयार नहीं थे। उन्होंने कहा- स्पीकर के बर्ताव को सहन नहीं किया जा सकता।

गुलामी की निशानी पहनने से इंकार
nzherald की एक रिपोर्ट के मुताबिक, संसद से निकाले जाने के बाद राविरी ने कहा- हम जनजातिय लोगों को अपनी परंपरा से प्यार है। हम यही लॉकेट (tanga) पहनेंगे। गुलामी का प्रतीक (Necktie) पहनने पर मुझे ऐतराज है।

मंगलवार को संसद का प्रश्नकाल चल रहा था। राविरी ने एक सवाल पूछना चाहा। स्पीकर मलार्ड ने उन्हें रोक दिया। कहा- आप बैठ जाइए। सवाल वही सांसद पूछ सकता है जिसने टाई पहनी हो। राविरी ने फिर कोशिश की। इस बार भी मलार्ड ने उन्हें रोक दिया। दोनों की बहस हुई। इसके बाद मलार्ड ने इस माओरी समुदाय के सांसद को सदन से निकाल दिया। निकलने के पहले राविरी ने माइक पर कहा- मुद्दा टाई का नहीं, हमारी सांस्कृतिक पहचान का है।

राविरी के साथ यह दूसरी बार हुआ
पिछले साल भी संसद सत्र के दौरान स्पीकर ने राविरी को नियमों का पालन करने की चेतावनी दी थी। इस बार संसद से निकाले जाने के बाद उन्होंने कहा- टाई पहनने का नियम पुराना हो चुका है। मैं जो पहने हुए हूं, मेरे और न्यूजीलैंड के कई लोगों के लिए वही टाई है। इसी सदन में मैक्सिको मूल का एक सांसद है। वो अपनी पारंपरिक टाई पहनता है। उस पर दिक्कत क्यों नहीं है। हम आदिवासियों को ही क्यों रोका जाता है।

राविरी वेइटिटि अपनी पार्टी की सांसद डेबी नारेवा पेकर के साथ। पेकर ने तो टाई पहनी है, लेकिन राविरी माओरी लॉकेट जिसे टेंगा कहा जाता है, वही पहने हैं। फोटो संसद में पिछले साल की है।

राविरी वेइटिटि अपनी पार्टी की सांसद डेबी नारेवा पेकर के साथ। पेकर ने तो टाई पहनी है, लेकिन राविरी माओरी लॉकेट जिसे टेंगा कहा जाता है, वही पहने हैं। फोटो संसद में पिछले साल की है।

सांसदों से सुझाव मांगे
पिछली साल जब टाई का मुद्दा पहली बार उठा था तब स्पीकर मलार्ड ने सभी सांसदों से कहा था कि वे इस बारे में अपने सुझाव लिखित में दें। जवाब में ज्यादातर सांसदों ने कहा कि सवाल पूछते वक्त टाई पहनने का नियम बिल्कुल सही है। इसके बाद यह रूल जारी रहा।

न्यूजीलैंड पार्लियामेंट
न्यूजीलैंड में पिछले साल संसदीय चुनाव हुए। जेसिंडा अर्डर्न की लेबर पार्टी जीती। वे खुद प्रधानमंत्री बनीं। संसद में 48% महिलाएं, 11% LGBT, 21% माओरी, 8.3% प्रशांत महासागर क्षेत्र के सांसद और 7% एशियाई मूल के सांसद हैं।

माओरी जनजाति
मार्च 2020 में जनगणना के मुताबिक, न्यूजीलैंड की जनसंख्या करीब 50 लाख है। यहां कई जनजातियां हैं। इनमें से माओरी भी एक है। इसे मूल रूप से पोलैंड का माना जाता है। जनसंख्या 7 लाख 75 हजार 836 है। 2013 से 2020 के बीच आबादी करीब 1.8% बढ़ी।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *