पाक-चीन पर लगाम की कोशिश: अमेरिका ने चीन और पाकिस्तान समेत 10 देशों को धार्मिक स्वतंत्रता के लिए खतरा बताया, सूची में ईरान भी शामिल

  • Hindi News
  • International
  • US Acts Against 10 Countries Including Pakistan, China For Violatons Of Religious Freedom Iran Is Included In The List

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

वॉशिंगटनएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने सोमवार को कहा- अमेरिका दुनिया भर में धर्म पर होने वाला जुल्म रोकने के लिए काम करेगा।- फाइल फोटो

अमेरिका ने धार्मिक आजादी का उल्लंघन करने वाले 10 देशों के खिलाफ कार्रवाई की है। इनमें पाकिस्तान,चीन और ईरान भी शामिल है। इन देशों को कंट्रीस ऑफ पर्टिकुलर कंसर्न (CPC) की लिस्ट में डाला गया है। अमेरिकी विदेश विभाग के मुताबिक, इन देशों में धार्मिक आजादी नहीं मिलने की समस्या चिंता की बात है। ये देश धर्म के आधार पर भेदभाव और जुल्म रोक नहीं पा रहे हैं।

अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा- अमेरिका दुनिया भर में धर्म के आधार पर होने वाले जुल्म को खत्म करने के लिए काम जारी रखेगा। दुनिया में कहीं भी किसी भी व्यक्ति को उसके धर्म के मुताबिक जीने का हक दिलाने में मददगार होगा। कट्टर विचारों के चलते होने वाले जुल्म को रोकने के लिए हरसंभव कदम उठाया जाएगा।

सूडान और उज्बेकिस्तान स्पेशल वॉच लिस्ट से बाहर

पोम्पियो ने कहा- बर्मा, चीन, इरिट्रिया, ईरान, नाइजीरिया, नॉर्थ कोरिया, सऊदी अरब, पाकिस्तान, ताजिकिस्तान और तुर्कमेनिस्तान CPC की लिस्ट में शामिल है। वहीं, कोमोरोस, क्यूबा, निकारागुआ और रूस को स्पेशल वॉच लिस्ट में रखा गया है। इन्हें इंटरनेशनल रिलीजियस फ्रीडम एक्ट 1998 के तहत इस लिस्ट में शामिल किया गया है। सूडान और उज्बेकिस्तान ने धार्मिक भेदभाव रोकने के लिए अच्छा काम किया है, इसलिए इनका स्पेशल वॉच लिस्ट से वापस ले लिया गया है।

कट्टर संगठनों पर भी अमेरिका की नजर

अमेरिका की नजर कुछ इस्लामिक कट्टर संगठन हैं। ऐसे 10 संगठनों को ऐसी लिस्ट में डाला है जिनसे चिंतित होने की जरूरत है। इसमें अल-शबाब, अल-कायदा, बोको- हरम, हयात तहरीर अल-शम, द हाउथिस, आईएसआईएस, आईएसआईएस-ग्रेटर सहारा, आईएसआईएस-वेस्ट अफ्रीका, जमात नस्र अल- इस्लाम वल मुस्लमीन और तालिबान का नाम शामिल है।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *