पुलिस ऑफिसर का रिटायरमेंट का इरादा नहीं: अरकंसास के 91 वर्षीय बकशॉट स्मिथ ने 2011 में रिटायमेंट के पांच महीने बाद दोबारा शुरू की नौकरी, हफ्ते में चार दिन करते हैं काम

  • Hindi News
  • International
  • Buckshot Smith Of Arkansas Resumed His Job Five Months After Retirement In 2011, Working Four Days A Week

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

वॉशिंगटन10 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

स्मिथ ने जनवरी, 2011 में रिटायरमेंट के बाद दोबारा पुलिस की नौकरी शुरू की थी और तब से वह सिर्फ इसे इंजॉय कर रहे हैं। (फाइल फोटो)

अमेरिकी प्रांत अरकंसास के शहर कैमडन में रहने वाले 91 साल के बकशॉट स्मिथ यहां के सबसे उम्रदराज पुलिसकर्मी हैं। इस उम्र में भी वह हफ्ते में चार दिन ड्यूटी करते हैं और उनका नौकरी छोड़ने का कोई इरादा नहीं है। वैसे तो स्मिथ 10 साल पहले रिटायर हो गए थे मगर रिटायरमेंट के बाद भी इसलिए नौकरी करते हैं क्योंकि उन्हें काम करने का शौक है।

उन्होंने 46 साल तक पुलिस की नौकरी की और जब रिटायर हुए तो घर नहीं बैठ सके। बमुश्किल पांच महीने किसी तरह घर में निकाले और एक बार फिर नौकरी शुरू कर ली। अब वह बस लोगों के लिए काम करना चाहते हैं और रिटायरमेंट के बारे में पूछने पर यही कहते हैं कि जब भगवान की मर्जी होगी, तभी रिटायर होंगे। स्मिथ ने जनवरी, 2011 में रिटायरमेंट के बाद दोबारा पुलिस की नौकरी शुरू की थी और तब से वह सिर्फ इसे इंजॉय कर रहे हैं। वह डिपार्टमेंट में इस बात का ध्यान रखते हैं कि सारे नियम-कानूनों का पालन हो रहा है या नहीं।

स्मिथ तो अपराधियों के बाप-दादा को भी जानते हैं : मेयर

स्मिथ इसके अलावा सभी ट्रैफिक स्टॉप, पैट्रोलिंग जोन्स और परेड के स्थलों पर खड़े पुलिसकर्मियों की मदद करते हैं। वह पुलिस की गाड़ी में तो सफर नहीं करते लेकिन पुलिस की यूनिफॉर्म भी पहनते हैं और बंदूक भी अपने पास रखते हैं।

हालांकि, शहर के मेयर जूलियन लॉट का मानना है कि स्मिथ को किसी हथियार की जरूरत नहीं क्योंकि वे तो उम्रदराज हैं और अपराधियों को क्या, उनके बाप-दादा तक को जानते हैं। वहीं स्मिथ का कहना है कि अगर शहर के लोग उन्हें अच्छा पुलिसवाला मानते हैं तो इसकी वजह बंदूक के बल पर दिखाया गया डर नहीं है बल्कि लोगों के लिए उनके मन में जो इज्जत है वह है।

वह कहते हैं, अपराधियों को गिरफ्तार करके लॉकअप में कई दिनों तक बिठाए रखने की बजाय मैं उन्हें उनके घर ले जाकर उनके मसले सुलझाता रहा हूं और इसी कारण कई अपराधियों का मन बदला। यह किसी भी अपराधी को सुधारने का मेरा तरीका है, बाकी लोग इसके बारे में क्या सोचते हैं, मैं उस बारे में कुछ नहीं कह सकता हूं लेकिन यह तरीका अपराधियों और लोगों को तो पसंद आता है।

खबरें और भी हैं…

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *