मानवाधिकार पर US की रिपोर्ट: नस्लवादी घटनाएं झेल रहे अमेरिका का दावा- भारत में ह्यूमन राइट्स से जुड़े कई मसले, लेकिन जम्मू-कश्मीर में हालात सामान्य हो रहे

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

वॉशिंगटन3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

अमेरिका के जो बाइडेन प्रशासन ने एक मानवाधिकार रिपोर्ट में भारत की तारीफ की, लेकिन कई मुद्दों पर सवाल भी उठाए। खुद नस्लीय हमलों से जूझ रहे अमेरिका ने मंगलवार को ‘2020 कंट्री रिपोर्ट्स ऑन ह्यूमन राइट्स प्रैक्टिसेज’ की रिपोर्ट में दुनिया भर के अलग-अलग देशों में मानवाधिकार की स्थिति के बारे में बताया। ये रिपोर्ट अमेरिका के विदेश मंत्री एंटोनी ब्लिंकन ने पेश की।

रिपोर्ट में कहा गया कि भारत में ह्यूमन राइट्स से जुड़े कई मसले हैं, लेकिन जम्मू-कश्मीर में हालात धीरे-धीरे सामान्य हो रहे हैं। अमेरिकी विदेश विभाग की ओर से जारी रिपोर्ट में कहा गया कि जम्‍मू-कश्‍मीर में सामान्‍य हालात बहाल करने के लिए भारत सरकार लगातार कदम उठा रही है। कई तरह की पाबंदियां धीरे-धीरे हटाई जा रही हैं। इस साल वहां राजनीतिक गतिविधियां भी शुरू कर दी गई हैं। जनवरी में वहां इंटरनेट की बहाली भी हो गई।

अमेरिका में नस्लवाद जैसी घटना के बीच रिपोर्ट पेश
बाइडेन प्रशासन की यह रिपोर्ट ऐसे समय में आई है, जबकि अमेरिका खुद इसी तरह की कई चुनौतियों का सामना कर रहा है। अमेरिकी विदेश मंत्री एंटोनी ब्लिंकेन ने इस बारे में भी बात की है। उन्‍होंने कहा कि हम जानते हैं कि घरेलू स्‍तर पर हमें कई मुद्दों पर काम करने की जरूरत है। इसमें नस्‍लवाद सबसे बड़ा मुद्दा है। हम ऐसा नहीं कहते कि ये समस्‍याएं यहां नहीं हैं और न ही हम इस पर पर्दा डालने की कोशिश कर रहे हैं। हम इसकी उपेक्षा नहीं कर सकते।

भारत में इन मसलों पर चिंता जाहिर की

  • पुलिस की ओर से गैरकानूनी और मनमानी हत्याएं
  • कुछ पुलिस और जेल अधिकारियों के अत्याचार
  • मनमानी गिरफ्तारियां और नजरबंदी
  • कठोर और जानलेवा जेल की स्थिति
  • कुछ राज्यों में राजनीतिक कैद और नजरबंदी
  • अभिव्यक्ति और प्रेस की स्वतंत्रता पर पाबंदी
  • भ्रष्टाचार और धार्मिक स्वतंत्रता का उल्लंघन
  • सरकार में सभी स्तरों पर व्यापक भ्रष्टाचार
  • महिलाओं के खिलाफ हिंसा के लिए जांच और जवाबदेही की कमी

रिपोर्ट में रूस और सीरिया के भी नाम
रिपोर्ट में रूसी राष्‍ट्रपति व्‍लादिमीर पुतिन की अगुआई वाले प्रशासन के खिलाफ राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों और प्रदर्शनकारियों को कुचलने का आरोप लगाया गया है। सीरिया की बशर अल-असद सरकार को भी अपने ही लोगों के दमन और उन पर अत्‍याचार के लिए दोषी ठहराया गया है।

US में पिछले एक साल में रिपोर्ट हुए 3,800 हेट क्राइम के मामले
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अमेरिका में पिछले कुछ महीनों में नस्लीय हमलों में बढ़ोतरी दर्ज की गई है। मार्च 2020 के बाद से करीब 3,800 हेट क्राइम के मामले रिपोर्ट किए गए हैं। पिछले साल मई में पुलिस कस्टडी में अश्वेत जार्ज फ्लॉयड की मौत के बाद पूरी दुनिया ने अमेरिका में मानवाधिकार उल्लंघन का मामला उठाया था।

खबरें और भी हैं…

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *