म्यांमार में विरोध का सबसे खूनी दिन: आर्म्ड फोर्सेज डे पर सुरक्षाबलों और तख्तापलट के विरोधियों के बीच कई शहरों में झड़प, 91 लोगों की मौत

  • Hindi News
  • International
  • Security Forces Killed More Than 90 People On Arms Army Day; More Than 300 People Have Died So Far

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

यांगोन4 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

म्यांमार के यांगोन में सैन्य तख्तापलट के बाद से ही इसके खिलाफ हिंसक प्रदर्शन चल रहा है।

म्यांमार में तख्तापलट के खिलाफ जारी हिंसक विरोध-प्रदर्शनों के बीच सुरक्षा बलों और प्रदर्शनकारियों की झड़प में शनिवार को 91 लोगों की मौत हो गई। लोकल मीडिया ने यह दावा किया है। देश में तख्तापलट के बाद एक दिन में हुईं मौतों की यह सबसे बड़ी संख्या है। शनिवार को ही म्यांमार में आर्म्ड फोर्सेज डे मनाया गया। इस दिन सेना परेड निकालकर अपनी ताकत का प्रदर्शन करती है।

न्यूज वेबसाइट ने सबसे ज्यादा मौतों का दावा किया
एक ऑनलाइन न्यूज वेबसाइट म्यांमार नाऊ ने दावा किया कि शनिवार को हिंसक प्रदर्शन में मरने वाले वालों की संख्या 91 तक पहुंच गई है। इससे पहले 14 मार्च को 74 से 90 लोगों की मौत हुई थी। यांगोन के एक इंडिपेंडेंट रिसर्चर के मुताबिक 20 से ज्यादा शहरों और कस्बों में ये प्रदर्शन हुए।

म्यांमार में तख्तापलट के खिलाफ कई शहरों में लोग हिंसक विरोध-प्रदर्शन कर रहे हैं।

म्यांमार में तख्तापलट के खिलाफ कई शहरों में लोग हिंसक विरोध-प्रदर्शन कर रहे हैं।

म्यांमार में सेना के तख्तापलट और दमन के खिलाफ पूरे देश में प्रदर्शन हो रहे हैं। इसमें अब तक करीब 400 लोगों की मौत हो चुकी है।

यह फोटो एक वीडियो फुटेज से ली गई है। इसमें सुरक्षाबल के जवान एक शख्स को पीटते दिख रहे हैं।

यह फोटो एक वीडियो फुटेज से ली गई है। इसमें सुरक्षाबल के जवान एक शख्स को पीटते दिख रहे हैं।

जनरल मिन आंग ने ली सेना की सलामी

म्यांमार में शनिवार को निकाली गई आर्मी परेड की सलामी लेते सेना के सुप्रीम लीडर जनरल मिन आंग ह्लाइंग।

म्यांमार में शनिवार को निकाली गई आर्मी परेड की सलामी लेते सेना के सुप्रीम लीडर जनरल मिन आंग ह्लाइंग।

म्यांमार के जनरल मिन आंग ह्लाइंग ने आर्मी परेड पर सेना की सलामी ली। राजधानी नेपाईतॉ में हुई परेड के दौरान उन्होंने कहा कि सेना लोगों की रक्षा करेगी और लोकतंत्र को बचाने के लिए कोशिश करेगी। सरकारी टीवी चैनल ने शुक्रवार को कहा था कि प्रदर्शनकारियों को सिर और पीठ में गोली लगने का खतरा है। इसके बावजूद तख्तापलट के खिलाफ प्रदर्शनकारी यांगोन, मांडले और अन्य शहरों की सड़कों पर निकले।

म्यांमार में तख्तापलट के खिलाफ हिंसक विरोध प्रदर्शन जारी है। अबतक 2,981 प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

म्यांमार में तख्तापलट के खिलाफ हिंसक विरोध प्रदर्शन जारी है। अबतक 2,981 प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

फरवरी में हुआ था तख्तापलट
म्यांमार की सेना ने फरवरी की शुरुआत में देश में तख्तापलट कर दिया था। इस दौरान नोबेल प्राइज विजेता और स्टेट काउंसलर आंग सान सू की को गिरफ्तार कर लिया गया था। आंग सान सू की की पार्टी ने नवंबर,2020 में हुए चुनाव में बड़ी जीत हासिल की थी। इस पर सेना ने चुनाव में धांधली का आरोप लगाया था। हालांकि, इलेक्शन ऑब्जर्बर ने इस तरह की किसी भी तरह की धांधली को नकारा था।

सेना ने 7 साल की बच्ची को गोली मारी थी
म्यांमार के मंडल्य शहर में एक 16 साल के बच्चे की हत्या कर दी गई थी। वहीं, कुछ लोग घायल हुए थे। इससे पहले मंगलवार को मंडल्य शहर में ही सेना ने पिता की गोद में बैठी 7 साल की बच्ची की गोली मारकर हत्या कर दी थी। अबतक हुई मौतों में बच्ची की उम्र सबसे कम है।

खबरें और भी हैं…

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *