रेमो डिसूजा का दर्द: ‘ABCD’ जैसी फिल्मों के डायरेक्टर ने कहा- डार्क स्किन टोन की वजह से मुझे रेसिज्म का सामना करना पड़ा है

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

एक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

कोरियोग्राफर और डायरेक्टर रेमो डिसूजा ने बताया कि कैसे उन्हें रेसिस्म का सामना करना पड़ा था। रेमो ने बताया कि डार्क स्किन टोन होने की वजह से उनके बहुत नाम रखे जाते थे और इसका सामना उन्होंने भारत के साथ-साथ विदेश में भी करना पड़ा था। एक इंटरव्यू के दौरान रेमो ने बताया कि वे यह सब अनदेखा कर देते थे पर अब उन्हें इस पर बहुत पछतावा है कि वे खुद के लिए स्टेंड नहीं ले पाए।

रेमो ने कि रेसिस्म पर बात

रेमो ने कहा, ‘मैंने बचपन से ही अपनी डार्क स्किन टोन की वजह से रेसिस्म का सामना किया है। यह एक ऐसा विषय है जिसे मैंने अपनी विदेश यात्राओं में बहुत ही पास से अनुभव किया है। जब मैं छोटा था तब लोग मुझे कई अलग-अलग नामों से बुलाते थे। मैं इसे सिर्फ इसलिए अनदेखा कर देता था क्योंकि मुझे लगता था कि शायद वे ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि मैं कुछ अलग दिखता हूं। आखिरकार जब मैं बड़ा हुआ तब मुझे समझ आया कि ये गलत था और ये उससे भी ज्यादा गलत था कि मैं उन्हें इन नामों से बुलाने देता था। लेकिन अब मैं इसके लिए खड़ा हूं और इसे किसी को भी नहीं करने दूंगा। मेरे स्किन टोन पर कमेंट्स ने मुझे वह बनने के लिए प्रेरित किया जो मैं आज हूं ताकि कोई भी मुझे उन नामों को फिर से न कह सके। पर रेसिस्म आभी भी छोटे शहरों और गांव में मौजूद है।’

रेमो डिसूज का करियर

रेमो डिसूजा का जन्म 2 अप्रैल 1974 को बैंगलोर में हुआ था। वे अपनी पड़ाई खत्म कर के सीधे मुंबई चले गए और वहां जा कर वे कोरियोग्राफर और डायरेक्टर बन गए। उन्होंने बहुत फिल्मों में कोरियोग्राफी की है जैसे ‘बाजीराव मस्तानी’, ‘कलंक’, आदि। साथ ही वे कई टीवी रियालिटी शो में जज के रूप में भी नजर आए हैं।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *