स्वरा भास्कर ने कहा- बाबरी मस्जिद खुद ही गिर गई थी, ऋचा चड्ढा ने ट्वीट में लिखा- इस जगह से ऊपर भी एक अदालत है

4 घंटे पहले

अनुभव सिन्हा, स्वरा भास्कर और ऋचा चड्ढा।

बाबरी मस्जिद का विवादित ढांचा गिराने के मामले में मंगलवार को सीबीआई की विशेष अदालत का फैसला आ गया। जिसमें कोर्ट ने ये कहते हुए सभी आरोपियों को बरी कर दिया कि बाबरी ढांचे को गिराना साजिश नहीं थी और न ही ऐसा करने के लिए कारसेवकों को किसी नेता ने उकसाया था। इस फैसले को लेकर बॉलीवुड के कई सेलेब्स ने ट्वीट कर हैरानी जताई।

स्वरा भास्कर, ऋचा चड्ढा, जीशान अय्यूब, गौहर खान और फिल्ममेकर अनुभव सिन्हा ने इस मामले को लेकर प्रतिक्रिया दी और अदालत के फैसले को लेकर तंज मारा। इस दौरान एक्ट्रेस स्वरा भास्कर ने अपने ट्वीट में लिखा, ‘बाबरी मस्जिद ख़ुद ही गिर गया था।’

स्वरा भास्कर।

एक्ट्रेस ऋचा चड्ढा ने फैसले पर प्रतिक्रिया देते हुए लिखा, ‘इस जगह से ऊपर भी एक अदालत है, यहां देर है अंधेर नहीं।’

ऋचा चड्ढा।

ऋचा चड्ढा।

फिल्ममेकर अनुभव सिन्हा ने अपने ट्वीट में लिखा, ‘श्री लाल कृष्ण आडवाणी को बधाई, अब आप इस देश की आत्मा पर अकेले एक लंबी खूनी रेखा खींचने के आरोपों से बरी हो गए हैं। भगवान आपको बहुत लंबी उम्र दे।’

अनुभव सिन्हा।

अनुभव सिन्हा।

अभिनेता जीशान अय्यूब ने फैसले पर सवाल उठाते हुए लिखा, ’18 साल तक जिस मुद्दे को हथियार बनाया, वोट बटोरे और देश को तोड़ा गया, जिस हिंसा को इन सबने छाती ठोक के देश में फैलाया…..उस तक से बरी हो गए!!!?? वाह रे मेरे देश!!!’

जीशान अय्यूब।

जीशान अय्यूब।

एक्ट्रेस गौहर खान ने लिखा, ‘निश्चित रूप से, उसकी वजह एक भूकंप था। हाहाहा। ये हम पर किया मजाक है।’

गौहर खान।

गौहर खान।

प्रणिता सुभाष ने किया फैसले का बचाव

साउथ एक्ट्रेस प्रणिता सुभाष ने लिखा, ‘तब कानून का शासन कहां था जब राजनीतिक नेताओं को गिरफ्तार किया गया था? तब न्याय कहां था जब पुलिस ने कारसेवकों पर गोलियां चलाई थीं? क्षमा करें, लेकिन भूलें नहीं।’ प्रणिता जल्द ही फिल्म ‘भुज’ और ‘हंगामा-2’ के जरिए बॉलीवुड में एंट्री लेंगी।

प्रणिता सुभाष।

प्रणिता सुभाष।

28 साल बाद आया विशेष अदालत का फैसला

अयोध्या में बाबरी मस्जिद का विवादित ढांचा 6 दिसंबर 1992 के दिन गिराया गया था। जिसके करीब 28 साल बाद कोर्ट का फैसला आया। इस मामले में लखनऊ में सीबीआई की विशेष कोर्ट ने सभी 32 आरोपियों को बरी कर दिया। यह भी कहा कि बाबरी ढांचे को गिराना साजिश नहीं थी और न ही ऐसा करने के लिए कारसेवकों को किसी नेता ने उकसाया था।

इस केस में पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी, उत्तरप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह, भाजपा के दिग्गज नेता मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती, विनय कटियार और साक्षी महाराज के समेत विश्व हिंदू परिषद के कई नेता भी आरोपी थे।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *