हैदराबाद नगर निगम चुनाव: ओवैसी की अपील- लोकतंत्र को मजबूत करने के लिए वोट डालें, शाह की एंट्री से यह चुनाव इंटरेस्टिंग हुए

  • Hindi News
  • National
  • Owaisi Came To Vote By Riding A Bike, This Election Was Interesting Due To The Promotion Of BJP Veterans

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

हैदराबाद3 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

ओवैसी ने कहा कि कृपया बाहर निकलें और मतदान करें। हैदराबाद के खास कल्चर और पहचान के लिए, भारत के लोकतंत्र को मजबूत करने और शांतिपूर्ण हैदराबाद के लिए वोट डालें।

तेलंगाना में ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम (GHMC) चुनाव के 150 वार्ड के लिए आज वोट डाले जा रहे हैं। AIMIM के चीफ असदुद्दीन ओवैसी सुबह बाइक चलाकर वोट डालने पहुंचे। इस चुनाव में भाजपा ने पहली बार जोरदार प्रचार किया है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री अमित शाह और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्‌डा ने भी यहां रैलियां की थीं। ऐसे में इस चुनाव ने देशभर का ध्यान अपनी ओर खींचा है। कुल 1122 उम्मीदवार मैदान में हैं।

इस चुनाव के नतीजे 4 दिसंबर को आएंगे। पिछले चुनाव में तेलंगाना राष्ट्र समिति (TRS) ने 99 वार्ड में जीत दर्ज की थी। वहीं, ओवैसी की AIMIM को 44 सीटें मिली थीं। बाकी सीटों पर निर्दलीय और अन्य कैंडिडेट जीते थे।

तेलंगाना के गृह राज्यमंत्री जी किशन रेड्‌डी ने काचीगुड़ा स्थित पोलिंग बूथ पर वोट डाला।

तेलंगाना के गृह राज्यमंत्री जी किशन रेड्‌डी ने काचीगुड़ा स्थित पोलिंग बूथ पर वोट डाला।

तेलंगाना के मंत्री और TRS नेता केटी राव ने वोट डाला।

तेलंगाना के मंत्री और TRS नेता केटी राव ने वोट डाला।

शाह ने रविवार को रैली की थी

गृह मंत्री अमित शाह रविवार को हैदराबाद पहुंचे थे। उन्होंने सिकंदराबाद में रोड शो किया था। इसके बाद उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर राज्य की तेलंगाना राष्ट्र समिति (TRS) सरकार पर तीखा हमला बोला। शाह ने कहा- चंद्रशेखर राव (KCR) जी से पूछना चाहता हूं कि आप ओवैसी की पार्टी से समझौता करते हैं, इससे हमें कोई दिक्कत नहीं है। लोकतंत्र में किसी भी पार्टी से समझौता या गठबंधन किया जा सकता है। दिक्कत है कि आपने एक कमरे में ईलू-ईलू करके सीटें बांट लीं।

ओवैसी की तरफ से अवैध रोहिंग्या मुस्लिमों के शहर में होने के सवाल पर शाह ने कहा- जब मैं एक्शन लेता हूं, तो वे संसद में बवाल करते हैं। उनसे कहिए कि मुझे लिखकर दें कि रोहिंग्या और बांग्लादेशियों को निकाला जाना है। संसद में उनका पक्ष कौन लेता है?

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *