2021 में बढ़ा निवेश: जनवरी से मार्च के दौरान 87 हजार करोड़ रुपए का PE/VC निवेश मिला, यह पिछले साल से 85% ज्यादा

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली17 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • जनवरी-मार्च 2020 में 238 सौदों से 47 हजार करोड़ का निवेश मिला था
  • 2020 की अंतिम तिमाही के मुकाबले बीती तिमाही में 58% का उछाल

2021 की पहली तिमाही यानी जनवरी से मार्च के दौरान देश में प्राइवेट इक्विटी/वेंचर कैपिटल (PE/VC) निवेश में बढ़ोतरी हुई है। वेंचर इंटेलीजेंस डाटा के मुताबिक, जनवरी से मार्च के दौरान देश में कुल 11.9 बिलियन डॉलर करीब 87 हजार करोड़ रुपए का PE/VC निवेश हुआ है। यह निवेश 188 सौदों के जरिए हुआ है। डाटा के मुताबिक, 2020 की पहली तिमाही के मुकाबले 2021 में PE/VC निवेश में 85% का उछाल रहा है। जनवरी-मार्च 2020 के दौरान 238 सौदों के जरिए 6.5 बिलियन डॉलर करीब 47 हजार करोड़ रुपए का निवेश हुआ था।

पिछली तिमाही से 58% ज्यादा निवेश

डाटा के मुताबिक, पिछली तिमाही यानी अक्टूबर-दिसंबर 2020 के मुकाबले 2021 की पहली तिमाही में निवेश में 58% का उछाल आया है। 2020 की चौथी तिमाही में देश में 231 सौदों के जरिए 7.5 बिलियन डॉलर करीब 55 हजार करोड़ रुपए का निवेश हुआ था। हालांकि, 2021 की पहली तिमाही में सौदों की संख्या में कमी आई है। डाटा के मुताबिक, 2020 की पहली तिमाही के मुकाबले 2021 की पहली तिमाही में सौदों में 21% की कमी आई है। जबकि 2020 की चौथी की तिमाही के मुकाबले 19% की कमी रही है।

टेक्नोलॉजी स्टार्टअप्स को मिला ज्यादा निवेश

वेंचर इंटेलीजेंस का कहना है कि 2021 की पहली तिमाही में PE/VC फर्म्स ने उच्चस्तरीय टेक्नोलॉजी स्टार्टअप्स में ज्यादा निवेश किया है। इस अवधि में देश के तीन यूनिकॉर्न ने 400 मिलियन डॉलर से ज्यादा का निवेश जुटाया है। इसमें फूड डिलिवरी ऐप जौमेटो, एडटेक कंपनी बायजूस क्लासेज और ई-स्पोर्ट्स कंपनी ड्रीम-11 शामिल है। वेंचर इंटेलीजेंस के डाटा के मुताबिक, 2021 की पहली तिमाही में 18 PE निवेश की राशि 100 मिलियन डॉलर से ज्यादा रही है। जबकि पिछले साल समान अवधि में इस राशि के 14 निवेश सौदे हुए थे।

DHFL रहा सबसे बड़ा सौदा

जनवरी-मार्च 2021 के दौरान सबसे बड़ा सौदा दीवान हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड (DHFL) का रहा है। पीरामल एंटरप्राइजेज ने 5.2 बिलियन डॉलर करीब 38 हजार करोड़ रुपए में DHFL को खरीदा था। इसके अलावा हॉन्ग-कॉन्ग की कंपनी एरीज SSG ने अल्टिको कैपिटल को 380 मिलियन डॉलर में खरीदा था। यह पहली तिमाही का दूसरा बड़ा सौदा था।

रिलायंस में निवेश के बिना ज्यादा फंड फ्लो काफी उत्साहजनक

वेंचर इंटेलीजेंस के फाउंडर अरुण नटराजन का कहना है कि 2021 की पहली तिमाही में रिलायंस ग्रुप कंपनीज में निवेश के बिना ज्यादा फंड फ्लो रहा है। यह PE/VC निवेश के लिए काफी उत्साहजनक है। 2020 की अंतिम तीन तिमाही में रिलायंस ग्रुप की डील्स से PE/VC निवेश के नए रिकॉर्ड बने थे। आने वाली तिमाहियों में यह देखना काफी रोमांचक होगा कि 2020 के मुकाबले कितना निवेश आता है।

BFSI को मिला 54% निवेश

जनवरी-मार्च 2021 के दौरान BFSI (बैंकिंग, फाइनेंशियल सर्विसेज और इंश्योरेंस) सेक्टर को सबसे ज्यादा 6.4 बिलियन डॉलर का निवेश मिला है। यह कुल PE/VC निवेश का 54% है। इसमें DHFL और अल्टिको कैपिटल सौदे की अहम हिस्सेदारी रही है। इस अवधि में आईटी और आईटी सर्विसेज कंपनियों ने 4 बिलियन डॉलर का निवेश जुटाया है। इसमें जौमेटो सबसे ज्यादा निवेश जुटाने वाली कंपनी रही है।

खबरें और भी हैं…

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *