49 साल की हुईं पूजा: शराब की लत से मौत की कगार पर पहुंच गई थीं पूजा भट्ट, पिता ने कही एक बात जिसके बाद जिंदगी भर के लिए छोड़ दिया अल्कोहल पीना

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

5 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

एक्ट्रेस, प्रोड्यूसर और डायरेक्टर रहीं पूजा भट्ट 49 साल की हो गई हैं। पूजा भट्ट शुरुआत से ही कॉन्ट्रोवर्सी में रही हैं। इन्होंने फिल्म डैडी (1989) से बॉलीवुड में डेब्यू किया था। इसे उनके पिता महेश भट्ट ने डायरेक्ट किया था। तब पूजा सिर्फ 17 साल की थीं। इस फिल्म में उन्हें काफी बोल्ड अंदाज में पेश किया गया था, फिल्म के लिए पूजा को फिल्मफेयर न्यू फेस ऑफ द ईयर का अवॉर्ड मिला था।

16 की उम्र से शराब पीने लगी थीं पूजा

सूत्रों के मुताबिक, पूजा भट्ट ने 16 साल की उम्र से ही शराब पीना शुरू कर दिया था। धीरे-धीरे उन्हें शराब की ऐसी लत लगी कि वो इसकी आदी हो गईं। हालांकि, 45 साल की उम्र होने तक उन्हें अहसास होने लगा था कि शराब छोड़ देना चाहिए वरना वो ज्यादा दिन नहीं जिएंगी। उन्हें ऐसा लगने लगा था कि वह अब मरने की कगार पर हैं।

अब शराब को नहीं लगातीं हाथ

पूजा भट्ट ने 24 दिसंबर, 2016 को शराब छोड़ने की कसम खाई और तब से अब तक चार साल हो चुके हैं और उन्होंने शराब की बोतल को हाथ तक नहीं लगाया।

पापा की इस बात से हुआ गलती का अहसास

पूजा के पिता महेश भट्ट और उनके कैबरे डायरेक्टर कौस्तुव के स्ट्रॉन्ग सपोर्ट की वजह से पूजा को शराब जैसी बुरी लत को छोड़ने में काफी मदद मिली। महेश भट्ट की एक बात से पूजा को अपनी गलती का अहसास हुआ। महेश ने कहा था- अगर तुम मुझसे प्यार करती हो तो खुद से भी प्यार करो, क्योंकि मैं खुद को तुम्हारे अंदर जीता हूं। बस, उनकी इसी बात ने पूजा को हेल्दी लाइफ जीने के लिए मोटिवेट किया।

शराब की वजह से फ्रेंड को खो चुकी हैं पूजा

रिपोर्ट्स के मुताबिक, पूजा भट्ट ये जानती हैं कि शराब ने उनके पिता के साथ क्या किया। कैसे उनके पेरेंट्स (महेश और किरण भट्ट) की शादी शराब की वजह से टूटी। पूजा ने शराब की वजह से 40 साल की अपनी एक फ्रेंड को भी खो दिया और उसकी मौत के दुख में वो और पीने लगी थीं।

हालांकि, अब पूजा पूरी तरह से शराब की लत से उबर चुकी हैं। उनके घर में अब भी फुली स्टॉक बार है, लेकिन वह अब सिर्फ फ्रेंड्स और मेहमानों के लिए है।

एक्टिंग के साथ डायरेक्शन में आजमाया हाथ

1991 में आई पूजा की फिल्म ‘दिल है कि मानता नहीं’ उनके करियर की सबसे हिट फिल्म रही। आमिर खान स्टारर इस फिल्म के जरिए उन्होंने दर्शकों की वाहवाही बटोरी। संजय दत्त के साथ 1991 में आई ‘सड़क’ में उनकी एक्टिंग सराही गई। पूजा की आखिरी फिल्म 2001 में रिलीज ‘एवरीबडी सेज आइ एम फाइन’ थी। 2004 में फिल्म ‘पाप’ से उन्होंने डायरेक्शन में कदम रखा। 1996 में उन्होंने पूजा भट्ट प्रोडक्शन कंपनी खोली, इसके तहत ‘तमन्ना’ रिलीज हुई।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *