Actress Raveena Tandon says she wasn’t promoted by heroes, refused to ‘sleep round for roles’ | रवीना टंडन ने कहा, ‘मुझे किसी हीरो ने प्रमोट नहीं किया और ना ही मैंने फिल्में पाने के लिए किसी के साथ अफेयर किया’

7 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

रवीना टंडन 90 के दशक की सबसे कामयाब अभिनेत्रियों में से एक थीं। उन्होंने मोहरा, अंदाज अपना अपना, लाडला, दूल्हे राजा सहित कई फिल्मों में काम किया। हाल ही में एक इंटरव्यू में उन्होंने अपने फिल्मी करियर और बॉलीवुड में लंबी पारी खेलने को लेकर बात की है।

‘मैं किसी के इशारों पर नहीं चली’

पिंकविला से बातचीत में रवीना ने कहा, ‘मेरा कोई गॉडफादर नहीं था, मैं किसी कैंप का हिस्सा नहीं थी और ना ही मेरे साथ कोई हीरो था जो मुझे प्रमोट करे। मैं रोल पाने के लिए हीरो के साथ अफेयर करने और उनके साथ सोने को तैयार नहीं थी। कई मामलों में मुझे एरोगेंट कहा गया क्योंकि मैं वैसा नहीं करती थी जैसा लोग चाहते थे। मैं किसी के इशारों पर नहीं चली। मैं हीरो के कहने पर हंसती नहीं थी या उनके कहने पर चलती, उठती या बैठती नहीं थी।’

रवीना ने इस दौरान कुछ महिला पत्रकारों पर भी सवाल उठाए जो कि पॉपुलर मेल एक्टर्स की कठपुतली हुआ करती थीं। रवीना ने बताया कि उस दौर में उनके ऊपर कई वाहियात आर्टिकल लिखे गए क्योंकि पत्रकारों को किसी का ईगो सेटिस्फाई करना था।

रवीना ने कहा, ‘मुझे इस बात पर हैरानी होती थी कि कई सारी महिला पत्रकार किसी अन्य महिला के साथ ऐसा कैसे कर सकती हैं। अब इनमें से कई पत्रकार कहती हैं कि वो फेमिनिस्ट हैं और अल्ट्रा-फेमिनिस्ट कॉलम लिखती हैं।’

करण जौहर की आलोचना पर भड़की थीं रवीना

रवीना बॉलीवुड से जुड़े विवादों पर अक्सर अपनी बेबाक राय देती रहती हैं। इससे पहले सुशांत की मौत के मामले में उन्होंने करण जौहर की हो रही आलोचना पर बात की थी। रवीना ने कहा था, ‘क्यों एक निर्माता एक्टर को करोड़ों की फीस देकर मूवी के लिए साइन करेगा और अपने करोड़ों रुपए दांव पर लगाकर घटिया फिल्म बनाएगा? किसी का करियर बर्बाद करने के लिए क्या कोई अपना इतना पैसा, समय बर्बाद करेगा? इतने बचकाने आरोप किसी पर लगाने से क्या होगा?’

‘कोई भी नेपोटिज्म का शिकार हो सकता है’

रवीना ने नेपोटिज्म पर अपनी राय व्यक्त करते हुए कहा था कि कोई ऐसा इंसान भी इसका शिकार हो सकता है, जो इंडस्ट्री में ही पैदा हुआ हो। रवीना ने कहा था, ‘जैसा कि मैं सुन सकती हूं कि कुछ एंकर्स इनसाइडर्स/आउटसाइडर्स की बात बड़े जोर-शोर से करते हैं। लेकिन आपको लड़ना पड़ता है। जितना ज्यादा उन्होंने मुझे दबाने की कोशिश की, मैंने उतनी ही तगड़ी फाइट की। हर जगह गंदी राजनीति होती है।’

0

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *