Bihar workforce will as soon as once more recreate sushant singh rajput’s dying scene in his bandra home, Forensic evidences are being taken from mumbai Police, | सुशांत के घर में डेथ सीन को फिर एक बार रीक्रिएट करेगी बिहार पुलिस, मुंबई टीम से लिए जा रहे हैं फॉरेंसिक एविडेंस

  • Hindi News
  • Entertainment
  • Bollywood
  • Bihar Crew Will As soon as Once more Recreate Sushant Singh Rajput’s Loss of life Scene In His Bandra Home, Forensic Evidences Are Being Taken From Mumbai Police,

three घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

बिहार में सुशांत सिंह राजपूत के पिता केके सिंह द्वारा केस किए जाने के बाद से ही सुशांत मामले ने रफ्तार पकड़ ली है। बिहार की टीम लगातार कई एंगल से जांच कर रही है। अब बताया जा रहा है कि केस को बारीकी से समझने के लिए अब बिहार की टीम बांद्रा स्थित सुशांत के घर में फिर एक बार उनके डेथ सीन को रीक्रिएट करेगी। इसके लिए टीम मुंबई पुलिस से कुछ फॉरेंसिक एविडेंस भी ले रही है जिनके मिलने ही फॉरेंसिक टीम के सामने इसे किया जाएगा।

सुशांत सिंह राजपूत ने 14 जून को अपने बांद्रा स्थित घर में फांसी लगा ली थी। हाउस वर्कर द्वारा सबसे पहले बहन को बुलाया गया जिसके बाद चाबी बनाने वालों को बुलाकर उनके कमरे का दरवाजा खुलवाया गया। रिपब्लिक टीवी की रिपोर्ट के अनुसार अब बिहार पुलिस के अफसर इसे दोहराने वाले हैं। मौत के बाद सुशांत के कमरे से बरामद किए गए सभी सामानों को फॉरेंसिक टेस्ट के लिए भेजा गया था जो फिलहाल मुंबई पुलिस के पास हैं ऐसे में बिहार पुलिस उन सभी एविडेंस को दोबारा इस्तेमाल करेगी।

बिहार पुलिस ने दिया लिखित आवेदन

न्यूज पोर्टल के करीबी सूत्र की मानें तो बिहार पुलिस ने बांद्रा पुलिस को लिखित आवेदन दिया है। इसके लिए अफसरों ने सुशांत की मौत के समय ली गईं तस्वीरें और वीडियोज भी मांगे हैं। साथ ही उनके बिस्तर की तस्वीर, दरवाजे पर मिले फिंगर प्रिंट्स, बैग,इलेक्ट्रॉनिक गैजेट, डिवाइस और उनके कपड़े भी लिए जाएंगे। डेट सीन का रीक्रिएशन फॉरेंसिक टीम की मौजूदगी में किया जाएगा।

सुशांत सिंह राजपूत का घर।

बांद्रा पुलिस स्टेशन में दिए बयान में सुशांत के हाउस हेल्पर ने बताया था कि सुशांत सुबह रोज की तरह उठे थे। उन्होंने अनार का जूस पीने के बाद कुछ देर के लिए वीडियो गेम भी खेला था। बाद में वो अपने कमरे में चले गए थे। खाना बनाने का पूछने के लिए जब उन्होंने सुशांत के कमरे का दरवाजा खटकाया तो कोई आवाज या प्रतिक्रिया नहीं आई। लंबे समय के इंतजार के बाद हेल्पर ने सुशांत की बहन को कॉल किया जो मुंबई में ही रहती थीं। बाद में कमरे की नई चाबी बनवाकर जब दरवाजा खोला गया तो सुशांत फांसी के फंदे में लटके पाए गए थे।

0

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *