China Tibet India | China Deployed Artillery Guns At An Altitude Of 4,600 Meters In Tibet, Combined Arms Brigade Deployed On Border With India | चीन ने तिब्बत में 4600 मीटर की ऊंचाई पर तोपें तैनात कीं; एलएसी के पास कंबाइंड आर्म्ड ब्रिगेड भेजी

  • Hindi News
  • National
  • China Tibet India | China Deployed Artillery Guns At An Altitude Of 4,600 Meters In Tibet, Combined Arms Brigade Deployed On Border With India

नई दिल्ली14 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

चीन ने तिब्बत क्षेत्र में सेना की तैनाती बढ़ा दी है और कम्बाइंड आर्म ब्रिगेड को भारत से लगी लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल के पास तैनात किया गया है। (सिम्बोलिक फोटो)

  • जुलाई के आखिरी हफ्ते में चीन ने तिब्बत में 4,600 मीटर की ऊंचाई पर आर्टिलरी गनों की तैनाती की
  • भारत-चीन में जारी विवाद कई दौर की मिलिट्री और डिप्लोमैटिक वार्ता के बाद भी सुलझ नहीं सका

भारत के साथ जारी तनाव के बीच चीन ने अब तिब्बत में अपनी तैनाती बढ़ाना शुरू कर दी है। चीन ने तिब्बत के ऊंचाई वाले इलाकों में आर्टिलरी गनों (तोप) को तैनात कर दिया है। सूत्रों के मुताबिक, जुलाई के आखिरी हफ्ते में चीन ने तिब्बत में 4,600 मीटर की ऊंचाई पर आर्टिलरी गनों की तैनाती की है।

चीन ने तिब्बत क्षेत्र में सेना की तैनाती बढ़ाई
न्यूज एजेंसी के हवाले से यह भी खुलासा किया गया कि चीन तिब्बत मिलिट्री डिस्ट्रिक्ट में 77 कॉम्बैट कमांड के 150 लाइट कम्बाइंड आर्म्स ब्रिगेड को तैनात कर दिया है। कम्बाइंड आर्म्स ब्रिगेड को अमेरिकन ब्रिगेड कॉम्बैट टीम की तर्ज पर तैयार किया गया है, जो सभी तरह के हथियारों को चलाने में एक्सपर्ट होती है। चीन ने तिब्बत क्षेत्र में सेना की तैनाती बढ़ा दी है और कम्बाइंड आर्म ब्रिगेड को भारत से लगी लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल के पास तैनात किया गया है।

तीनों सेक्टर्स में चीन की हरकत
चीन ने एनएसी के तीनों सेक्टर में सैनिक, आर्टिलरी और आर्मर तैनात किए हैं। ये इलाके हैं, पश्चिमी लद्दाख, मध्य में (उत्तराखंड और हिमाचल से लगने वाली सीमा) और पूर्व (सिक्किम और अरुणाचल से लगने वाली सीमा)। चीन उत्तराखंड में लिपुलेख पास एरिया में भी सैनिकों का जमावड़ा कर रखा है। यहां नेपाल, भारत और चीन की सीमाएं मिलती हैं। यह कालापानी घाटी का हिस्सा है।

लंबे समय से नहीं सुलझ रहा मामला
भारत और चीन के बीच जारी विवाद कई दौर की मिलिट्री और डिप्लोमैटिक वार्ता के बाद भी सुलझ नहीं सका है। पूर्वी लद्दाख से पीछे हटने के वादे से मुकरने के बाद भारतीय सेना ने भी लंबे वक्त तक मोर्चा संभालने की पूरी तैयारी कर ली है। चीन ने वादे के खिलाफ जाते हुए सीमावर्ती इलाकों में निर्माण भी कर लिए हैं।

क्या है विवाद
भारत और चीन के बीच विवाद की शुरुआत तब हुई, जब चीन ने एलएसी पर कई इलाकों में यथास्थिति में बदलाव करते हुए भारतीय क्षेत्र में आ गए। भारत इसका विरोध किया और चीन के साथ सभी लेवल पर मुद्दों को उठाना शुरू किया। इसके बाद गलवान वैली में भारत-चीन के बीच 15 जून को हुई झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे। चीन के भी करीब 35 सैनिक मारे गए थे, लेकिन उसने कभी माना नहीं।

ये भी पढ़ सकते हैं…

1. पैंगोंग त्सो के उत्तरी इलाके से सेना पीछे बुलाने को तैयार नहीं चीन, भारत ने कहा- उन्हें हटना ही होगा, हमारे जवान पीछे नहीं हटेंगे

2. दोनों देशों के बीच मेजर जनरल लेवल की 5वें दौर की मीटिंग 8.30 घंटे चली, देप्सांग समेत विवादित इलाकों से चीनी सेना हटाने पर बात हुई

0

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *